noImage

क़ासिम जलाल

सुबूत माँगते हैं वो मिरी वफ़ा का 'जलाल'

हर इक से तर्क-ए-तअ'ल्लुक़ किया है जिन के लिए