noImage

क़ुर्बान अली सालिक बेग

1824 - 1880 | दिल्ली, भारत

ग़ज़ल 35

शेर 6

तंग-दस्ती अगर हो 'सालिक'

तंदुरुस्ती हज़ार नेमत है

  • शेयर कीजिए

अब तक भी मेरे होश ठिकाने नहीं हुए

'सालिक' का हाल रात को ऐसा सुना कि बस

  • शेयर कीजिए

'सालिक' चखाऊँ उन को मज़ा जौर का अभी

डरता हूँ कुछ बुरा कहें सिन के दस मुझे

  • शेयर कीजिए

पुस्तकें 3

Bahar-e-Salik

 

1871

कुल्लियात-ए-सालिक

 

1966

Kulliyat-e-Salik

 

1880

 

"दिल्ली" के और शायर

  • नसीम देहलवी नसीम देहलवी
  • हकीम आग़ा जान ऐश हकीम आग़ा जान ऐश
  • हीरा लाल फ़लक देहलवी हीरा लाल फ़लक देहलवी
  • मुर्ली धर शाद मुर्ली धर शाद
  • शकील शम्सी शकील शम्सी
  • नूरुल ऐन क़ैसर क़ासमी नूरुल ऐन क़ैसर क़ासमी
  • ममनून निज़ामुद्दीन ममनून निज़ामुद्दीन
  • चंद्रभान कैफ़ी देहल्वी चंद्रभान कैफ़ी देहल्वी
  • प्यारे लाल रौनक़ देहलवी प्यारे लाल रौनक़ देहलवी
  • आबिद करहानी आबिद करहानी