noImage

रंगीन सआदत यार ख़ाँ

1756 - 1835 | लखनऊ, भारत

उर्दू शायरी की विधा ' रेख़्ती ' के लिए प्रसिद्ध जिसमें शायर औरतों की भाषा में बोलता है

उर्दू शायरी की विधा ' रेख़्ती ' के लिए प्रसिद्ध जिसमें शायर औरतों की भाषा में बोलता है

बादल आए हैं घिर गुलाल के लाल

कुछ किसी का नहीं किसी को ख़याल

ज़ुल्म की टहनी कभी फलती नहीं

नाव काग़ज़ की कहीं चलती नहीं

झूटा कभी झूटा होवे

झूटे के आगे सच्चा रोवे

ता हश्र रहे ये दाग़ दिल का

या-रब बुझे चराग़ दिल का

वो आए तो तू ही चल 'रंगीं'

इस में क्या तेरी शान जाती है

पा-बोस-ए-यार की हमें हसरत है नसीम

आहिस्ता आइओ तू हमारे मज़ार पर

मनअ करते हो अबस यारो आज

उस के घर जाएँगे पर जाएँगे हम

था जहाँ मय-ख़ाना बरपा उस जगह मस्जिद बनी

टूट कर मस्जिद को फिर देखा तो बुत-ख़ाने हुए

है ये दुनिया जा-ए-इबरत ख़ाक से इंसान की

बन गए कितने सुबू कितने ही पैमाने हुए