noImage

साजिद ख़ैराबादी

शेर 1

अन-गिनत ख़ूनी मसाइल की हवा ऐसी चली

रंज-ओ-ग़म की गर्द में लिपटा हर इक चेहरा मिला

  • शेयर कीजिए