noImage

सख़ी लख़नवी

1813 - 1876

ग़ज़ल 34

शेर 53

जाएगी गुलशन तलक उस गुल की आमद की ख़बर

आएगी बुलबुल मिरे घर में मुबारकबाद को

हिचकियाँ आती हैं पर लेते नहीं वो मेरा नाम

देखना उन की फ़रामोशी को मेरी याद को

बात करने में होंट लड़ते हैं

ऐसे तकरार का ख़ुदा-हाफ़िज़

दफ़्न हम हो चुके तो कहते हैं

इस गुनहगार का ख़ुदा-हाफ़िज़

देखो क़लई खुलेगी साफ़ उस की

आईना उन के मुँह चढ़ा है आज

  • शेयर कीजिए

पुस्तकें 1

दीवान-ए-सख़ी

नग़्मा-ए-हज़ार

1882

 

संबंधित शायर

  • मीर तस्कीन देहलवी मीर तस्कीन देहलवी समकालीन
  • मिर्ज़ा ग़ालिब मिर्ज़ा ग़ालिब समकालीन
  • शाद लखनवी शाद लखनवी समकालीन
  • मुस्तफ़ा ख़ाँ शेफ़्ता मुस्तफ़ा ख़ाँ शेफ़्ता समकालीन
  • तअशशुक़ लखनवी तअशशुक़ लखनवी समकालीन
  • मिर्ज़ा सलामत अली दबीर मिर्ज़ा सलामत अली दबीर समकालीन
  • मुफ़्ती सदरुद्दीन आज़ुर्दा मुफ़्ती सदरुद्दीन आज़ुर्दा समकालीन
  • बहादुर शाह ज़फ़र बहादुर शाह ज़फ़र समकालीन
  • मोमिन ख़ाँ मोमिन मोमिन ख़ाँ मोमिन समकालीन
  • लाला माधव राम जौहर लाला माधव राम जौहर समकालीन