Sauda Mohammad Rafi's Photo'

मोहम्मद रफ़ी सौदा

1713 - 1781 | दिल्ली, भारत

18वी सदी के बड़े शायरों में शामिल, मीर तक़ी 'मीर' के समकालीन।

18वी सदी के बड़े शायरों में शामिल, मीर तक़ी 'मीर' के समकालीन।

मोहम्मद रफ़ी सौदा के वीडियो

This video is playing from YouTube

वीडियो का सेक्शन
अन्य वीडियो

ज़मर्रुद बानो

सयान चौधरी

Mirza Rafi Sauda

Mirza Rafi Sauda ज़िया मोहीउद्दीन

गदा दस्त-ए-अहल-ए-करम देखते हैं

गदा दस्त-ए-अहल-ए-करम देखते हैं ज़मर्रुद बानो

गुल फेंके है औरों की तरफ़ बल्कि समर भी

गुल फेंके है औरों की तरफ़ बल्कि समर भी बेगम अख़्तर

गुल फेंके है औरों की तरफ़ बल्कि समर भी

गुल फेंके है औरों की तरफ़ बल्कि समर भी मोहम्मद रफ़ी सौदा

जो गुज़री मुझ पे मत उस से कहो हुआ सो हुआ

जो गुज़री मुझ पे मत उस से कहो हुआ सो हुआ टीना सानी

जो गुज़री मुझ पे मत उस से कहो हुआ सो हुआ

जो गुज़री मुझ पे मत उस से कहो हुआ सो हुआ मोहम्मद रफ़ी सौदा

जो गुज़री मुझ पे मत उस से कहो हुआ सो हुआ

जो गुज़री मुझ पे मत उस से कहो हुआ सो हुआ अमानत अली ख़ान

दिल मत टपक नज़र से कि पाया न जाएगा

दिल मत टपक नज़र से कि पाया न जाएगा श्रुति सडोलिकर काटकर

नसीम है तिरे कूचे में और सबा भी है

नसीम है तिरे कूचे में और सबा भी है मेहदी हसन

वे सूरतें इलाही किस मुल्क बस्तियाँ हैं

वे सूरतें इलाही किस मुल्क बस्तियाँ हैं आबिदा परवीन

अन्य वीडियो

  • ज़मर्रुद बानो

  • सयान चौधरी

  • Mirza Rafi Sauda

    Mirza Rafi Sauda ज़िया मोहीउद्दीन

  • गदा दस्त-ए-अहल-ए-करम देखते हैं

    गदा दस्त-ए-अहल-ए-करम देखते हैं ज़मर्रुद बानो

  • गुल फेंके है औरों की तरफ़ बल्कि समर भी

    गुल फेंके है औरों की तरफ़ बल्कि समर भी बेगम अख़्तर

  • गुल फेंके है औरों की तरफ़ बल्कि समर भी

    गुल फेंके है औरों की तरफ़ बल्कि समर भी मोहम्मद रफ़ी सौदा

  • जो गुज़री मुझ पे मत उस से कहो हुआ सो हुआ

    जो गुज़री मुझ पे मत उस से कहो हुआ सो हुआ टीना सानी

  • जो गुज़री मुझ पे मत उस से कहो हुआ सो हुआ

    जो गुज़री मुझ पे मत उस से कहो हुआ सो हुआ मोहम्मद रफ़ी सौदा

  • जो गुज़री मुझ पे मत उस से कहो हुआ सो हुआ

    जो गुज़री मुझ पे मत उस से कहो हुआ सो हुआ अमानत अली ख़ान

  • दिल मत टपक नज़र से कि पाया न जाएगा

    दिल मत टपक नज़र से कि पाया न जाएगा श्रुति सडोलिकर काटकर

  • नसीम है तिरे कूचे में और सबा भी है

    नसीम है तिरे कूचे में और सबा भी है मेहदी हसन

  • वे सूरतें इलाही किस मुल्क बस्तियाँ हैं

    वे सूरतें इलाही किस मुल्क बस्तियाँ हैं आबिदा परवीन