Tahzeeb Hafi's Photo'

नई नस्ल के अग्रणी शायर।

नई नस्ल के अग्रणी शायर।

5.45K
Favorite

श्रेणीबद्ध करें

मैं कि काग़ज़ की एक कश्ती हूँ

पहली बारिश ही आख़िरी है मुझे

तेरा चुप रहना मिरे ज़ेहन में क्या बैठ गया

इतनी आवाज़ें तुझे दीं कि गला बैठ गया

ये एक बात समझने में रात हो गई है

मैं उस से जीत गया हूँ कि मात हो गई है

दास्ताँ हूँ मैं इक तवील मगर

तू जो सुन ले तो मुख़्तसर भी हूँ

वो जिस की छाँव में पच्चीस साल गुज़रे हैं

वो पेड़ मुझ से कोई बात क्यूँ नहीं करता

तमाम नाख़ुदा साहिल से दूर हो जाएँ

समुंदरों से अकेले में बात करनी है

बता अब्र मुसावात क्यूँ नहीं करता

हमारे गाँव में बरसात क्यूँ नहीं करता

अपनी मस्ती में बहता दरिया हूँ

मैं किनारा भी हूँ भँवर भी हूँ

इक तिरा हिज्र दाइमी है मुझे

वर्ना हर चीज़ आरज़ी है मुझे

इस लिए रौशनी में ठंडक है

कुछ चराग़ों को नम किया गया है

मैं जिस के साथ कई दिन गुज़ार आया हूँ

वो मेरे साथ बसर रात क्यूँ नहीं करता

पेड़ मुझे हसरत से देखा करते थे

मैं जंगल में पानी लाया करता था

मैं जंगलों की तरफ़ चल पड़ा हूँ छोड़ के घर

ये क्या कि घर की उदासी भी साथ हो गई है

मैं सुख़न में हूँ उस जगह कि जहाँ

साँस लेना भी शाइरी है मुझे

आसमाँ और ज़मीं की वुसअत देख

मैं इधर भी हूँ और उधर भी हूँ

सहरा से हो के बाग़ में आया हूँ सैर को

हाथों में फूल हैं मिरे पाँव में रेत है