ग़ज़ल 6

शेर 2

निकाल लाया हूँ एक पिंजरे से इक परिंदा

अब इस परिंदे के दिल से पिंजरा निकालना है

किताब-ए-इश्क़ में हर आह एक आयत है

पर आँसुओं को हुरूफ़‌‌‌‌-ए-मुक़त्तिआ'त समझ

  • शेयर कीजिए
 

चित्र शायरी 2

बड़े तहम्मुल से रफ़्ता रफ़्ता निकालना है बचा है जो तुझ में मेरा हिस्सा निकालना है ये रूह बरसों से दफ़्न है तुम मदद करोगे बदन के मलबे से इस को ज़िंदा निकालना है नज़र में रखना कहीं कोई ग़म-शनास गाहक मुझे सुख़न बेचना है ख़र्चा निकालना है निकाल लाया हूँ एक पिंजरे से इक परिंदा अब इस परिंदे के दिल से पिंजरा निकालना है ये तीस बरसों से कुछ बरस पीछे चल रही है मुझे घड़ी का ख़राब पुर्ज़ा निकालना है ख़याल है ख़ानदान को इत्तिलाअ दे दूँ जो कट गया उस शजर का शजरा निकालना है मैं एक किरदार से बड़ा तंग हूँ क़लमकार मुझे कहानी में डाल ग़ुस्सा निकालना है

 

वीडियो 4

This video is playing from YouTube

वीडियो का सेक्शन
शायर अपना कलाम पढ़ते हुए
जहान भर की तमाम आँखें निचोड़ कर जितना नम बनेगा

उमैर नजमी

दाएँ बाज़ू में गड़ा तीर नहीं खींच सका

उमैर नजमी

मिरी भँवों के ऐन दरमियान बन गया

उमैर नजमी

संबंधित शायर

  • अली ज़रयून अली ज़रयून समकालीन
  • अमीर इमाम अमीर इमाम समकालीन
  • सालिम सलीम सालिम सलीम समकालीन
  • तहज़ीब हाफ़ी तहज़ीब हाफ़ी समकालीन

"रहीम यार ख़ान" के और शायर

  • जब्बार वासिफ़ जब्बार वासिफ़
  • कबीर अतहर कबीर अतहर
  • बाक़ी अहमदपुरी बाक़ी अहमदपुरी