ग़ज़ल 6

शेर 2

निकाल लाया हूँ एक पिंजरे से इक परिंदा

अब इस परिंदे के दिल से पिंजरा निकालना है

किताब-ए-इश्क़ में हर आह एक आयत है

पर आँसुओं को हुरूफ़‌‌‌‌-ए-मुक़त्तिआ'त समझ

  • शेयर कीजिए
 

वीडियो 4

This video is playing from YouTube

वीडियो का सेक्शन
शायर अपना कलाम पढ़ते हुए
जहान भर की तमाम आँखें निचोड़ कर जितना नम बनेगा

उमैर नजमी

दाएँ बाज़ू में गड़ा तीर नहीं खींच सका

उमैर नजमी

मिरी भँवों के ऐन दरमियान बन गया

उमैर नजमी

संबंधित शायर

  • अली ज़रयून अली ज़रयून समकालीन
  • अमीर इमाम अमीर इमाम समकालीन
  • सालिम सलीम सालिम सलीम समकालीन
  • तहज़ीब हाफ़ी तहज़ीब हाफ़ी समकालीन

"रहीम यार ख़ान" के और शायर

  • जब्बार वासिफ़ जब्बार वासिफ़
 

Added to your favorites

Removed from your favorites