Yasmeen Hameed's Photo'

यासमीन हमीद

1951 | पाकिस्तान

225
Favorite

श्रेणीबद्ध करें

पर्दा आँखों से हटाने में बहुत देर लगी

हमें दुनिया नज़र आने में बहुत देर लगी

ख़ुशी के दौर तो मेहमाँ थे आते जाते रहे

उदासी थी कि हमेशा हमारे घर में रही

जिस सम्त की हवा है उसी सम्त चल पड़ें

जब कुछ हो सका तो यही फ़ैसला किया

हमें ख़बर थी बचाने का उस में यारा नहीं

सो हम भी डूब गए और उसे पुकारा नहीं

अपनी निगाह पर भी करूँ ए'तिबार क्या

किस मान पर कहूँ वो मिरा इंतिख़ाब था

मुसलसल एक ही तस्वीर चश्म-ए-तर में रही

चराग़ बुझ भी गया रौशनी सफ़र में रही

अगर इतनी मुक़द्दम थी ज़रूरत रौशनी की

तो फिर साए से अपने प्यार करना चाहिए था

उस इमारत को गिरा दो जो नज़र आती है

मिरे अंदर जो खंडर है उसे तामीर करो

ज़रा धीमी हो तो ख़ुशबू भी भली लगती है

आँख को रंग भी सारे नहीं अच्छे लगते

समुंदर हो तो उस में डूब जाना भी रवा है

मगर दरियाओं को तो पार करना चाहिए था

एक दीवार उठाई थी बड़ी उजलत में

वही दीवार गिराने में बहुत देर लगी

जो डुबोएगी पहुँचाएगी साहिल पे हमें

अब वही मौज समुंदर से उभरने को है

रस्ते से मिरी जंग भी जारी है अभी तक

और पाँव तले ज़ख़्म की वहशत भी वही है

किसी के नर्म लहजे का क़रीना

मिरी आवाज़ में शामिल रहा है

उस के शिकस्ता वार का भी रख लिया भरम

ये क़र्ज़ हम ने ज़ख़्म की सूरत अदा किया

मैं अब उस हर्फ़ से कतरा रही हूँ

जो मेरी बात का हासिल रहा है

क्यूँ ढूँडने निकले हैं नए ग़म का ख़ज़ीना

जब दिल भी वही दर्द की दौलत भी वही है

इतनी बे-रब्त कहानी नहीं अच्छी लगती

और वाज़ेह भी इशारे नहीं अच्छे लगते

मिरी हर बात पस-मंज़र से क्यूँ मंसूब होती है

मुझे आवाज़ सी आती है क्यूँ उजड़े दयारों से