Zubair Rizvi's Photo'

ज़ुबैर रिज़वी

1935 - 2016 | दिल्ली, भारत

प्रमुखतम आधुनिक शायरों में विख्यात/अपनी साहित्यिक पत्रिका ‘ज़ह्न-ए-जदीद’ के लिए प्रसिद्ध

प्रमुखतम आधुनिक शायरों में विख्यात/अपनी साहित्यिक पत्रिका ‘ज़ह्न-ए-जदीद’ के लिए प्रसिद्ध

808
Favorite

श्रेणीबद्ध करें

तुम अपने चाँद तारे कहकशाँ चाहे जिसे देना

मिरी आँखों पे अपनी दीद की इक शाम लिख देना

औरतों की आँखों पर काले काले चश्मे थे सब की सब बरहना थीं

ज़ाहिदों ने जब देखा साहिलों का ये मंज़र लिख दिया गुनाहों में

क्यूँ मता-ए-दिल के लुट जाने का कोई ग़म करे

शहर-ए-दिल्ली में तो ऐसे वाक़िए होते रहे

कच्ची दीवारों को पानी की लहर काट गई

पहली बारिश ही ने बरसात की ढाया है मुझे

धुआँ सिगरेट का बोतल का नशा सब दुश्मन-ए-जाँ हैं

कोई कहता है अपने हाथ से ये तल्ख़ियाँ रख दो

ज़िंदगी जिन की रिफ़ाक़त पे बहुत नाज़ाँ थी

उन से बिछड़ी तो कोई आँख में आँसू भी नहीं

पुराने लोग दरियाओं में नेकी डाल आते थे

हमारे दौर का इंसान नेकी कर के चीख़ेगा

ये लम्हा लम्हा तकल्लुफ़ के टूटते रिश्ते

इतने पास मिरे कि तू पुराना लगे

नज़र आए तो सौ वहम दिल में आते हैं

वो एक शख़्स जो अक्सर दिखाई देता है

मैं अपनी दास्ताँ को आख़िर-ए-शब तक तो ले आया

तुम इस का ख़ूबसूरत सा कोई अंजाम लिख देना

सुर्ख़ियाँ अख़बार की गलियों में ग़ुल करती रहीं

लोग अपने बंद कमरों में पड़े सोते रहे

जो इक बार भी चलते हुए मुड़ के देखें

ऐसी मग़रूर तमन्नाओं का पीछा करो

अपनी ज़ात के सारे ख़ुफ़िया रस्ते उस पर खोल दिए

जाने किस आलम में उस ने हाल हमारा पूछा था

जला है दिल या कोई घर ये देखना लोगो

हवाएँ फिरती हैं चारों तरफ़ धुआँ ले कर

कोई टूटा हुआ रिश्ता दामन से उलझ जाए

तुम्हारे साथ पहली बार बाज़ारों में निकला हूँ

वो जिस को दूर से देखा था अजनबी की तरह

कुछ इस अदा से मिला है कि दोस्ताना लगे

ग़ज़ब की धार थी इक साएबाँ साबित रह पाया

हमें ये ज़ोम था बारिश में अपना सर भीगेगा

गुलाबों के होंटों पे लब रख रहा हूँ

उसे देर तक सोचना चाहता हूँ

जाते मौसम ने जिन्हें छोड़ दिया है तन्हा

मुझ में उन टूटते पत्तों की झलक है कितनी

नए घरों में रौज़न थे और मेहराबें

परिंदे लौट गए अपने आशियाँ ले कर

तुम जहाँ अपनी मसाफ़त के निशाँ छोड़ गए

वो गुज़रगाह मिरी ज़ात का वीराना था

हम ने पाई है उन अशआर पे भी दाद 'ज़ुबैर'

जिन में उस शोख़ की तारीफ़ के पहलू भी नहीं

शाम की दहलीज़ पर ठहरी हुई यादें 'ज़ुबैर'

ग़म की मेहराबों के धुँदले आईने चमका गईं

अपनी पहचान के सब रंग मिटा दो कहीं

ख़ुद को इतना ग़म-ए-जानाँ से शनासा करो

भटक जाती हैं तुम से दूर चेहरों के तआक़ुब में

जो तुम चाहो मिरी आँखों पे अपनी उँगलियाँ रख दो

अजीब लोग थे ख़ामोश रह के जीते थे

दिलों में हुर्मत-ए-संग-ए-सदा के होते हुए

इधर उधर से मुक़ाबिल को यूँ घाइल कर

वो संग फेंक कि बे-साख़्ता निशाना लगे

दूर तक कोई आया उन रुतों को छोड़ने

बादलों को जो धनक की चूड़ियाँ पहना गईं

कहाँ पे टूटा था रब्त-ए-कलाम याद नहीं

हयात दूर तलक हम से हम-कलाम आई

सुख़न के कुछ तो गुहर मैं भी नज़्र करता चलूँ

अजब नहीं कि करें याद माह साल मुझे

हाए ये अपनी सादा-मिज़ाजी एटम के इस दौर में भी

अगले वक़्तों की सी शराफ़त ढूँड रही है शहरों में

वो जिस को देखने इक भीड़ उमडी थी सर-ए-मक़्तल

उसी की दीद को हम भी सुतून-ए-दार तक आए