ग़ज़ल 11

शेर 12

सुनते हैं चमकता है वो चाँद अब भी सर-ए-बाम

हसरत है कि बस एक नज़र देख लें हम भी

वो भी शायद रो पड़े वीरान काग़ज़ देख कर

मैं ने उस को आख़िरी ख़त में लिखा कुछ भी नहीं

सो सका हूँ शब जाग कर गुज़ारी है

अजीब दिन हैं सुकूँ है बे-क़रारी है

  • शेयर कीजिए

वो जिसे सारे ज़माने ने कहा मेरा रक़ीब

मैं ने उस को हम-सफ़र जाना कि तू उस की भी थी

अपनी सूरत बिगड़ गई लेकिन

हम उन्हें आईना दिखा के रहे

पुस्तकें 1

Kulliyat-e-Zuhoor Nazar

 

1987

 

संबंधित शायर

  • एहसान दानिश एहसान दानिश समकालीन

"बहावलपुर" के और शायर

  • अज़हर फ़राग़ अज़हर फ़राग़
  • अफ़ज़ल ख़ान अफ़ज़ल ख़ान
  • पारस मज़ारी पारस मज़ारी
  • सय्यद ज़ियाउद्दीन नईम सय्यद ज़ियाउद्दीन नईम
  • एहतिशाम हसन एहतिशाम हसन
  • मरयम नाज़ मरयम नाज़
  • एजाज तवक्कल एजाज तवक्कल
  • ख़ुर्रम आफ़ाक़ ख़ुर्रम आफ़ाक़
  • ज़ीशान अतहर ज़ीशान अतहर