noImage

हमीद अज़ीमाबादी

1896 - 1963

हमीद अज़ीमाबादी

शेर 1

आप ने तीर लगाया तो कोई बात थी

ज़ख़्म मैं ने जो दिखाया तो बुरा मान गए

  • शेयर कीजिए
 

पुस्तकें 15

फ़रोग़-ए-हस्ती

 

1957

Jame-ul-Arooz

 

1943

Kalam-e-Betab

 

 

Kalam-e-Betab Azimabadi

 

 

Maikhana-e-Ilham

Deewan-e-Shad

1962

Maikhana-e-Ilham

Deewan-e-Shad

1938

Marasi-e-Shad

Volume-002

 

Meezan-e-Sukhan

 

1986

Rasikh Azimabadi

 

1950

रुबाइयात