पुस्तकें 2

जदीद इबलाग़-ए-अाम

 

1990

Tasweeri Sahafat

 

1990

 

वीडियो 103

This video is playing from YouTube

वीडियो का सेक्शन
हास्य वीडियो

मेहदी हसन

मेहदी हसन

मेहदी हसन

मेहदी हसन

मेहदी हसन

मेहदी हसन

मेहदी हसन

मेहदी हसन

मेहदी हसन

मेहदी हसन

मेहदी हसन

मेहदी हसन

मेहदी हसन

 NA SION HONT NA KHABON MAIN SADAA DO

मेहदी हसन

Aaya meri mehfil mein

मेहदी हसन

Ab ke saal poonam mein

मेहदी हसन

Be Sabab Aaj Aankh Purnam Hai

मेहदी हसन

hosh e hasti se to begana banaya hota

मेहदी हसन

ik khalish ko

मेहदी हसन

Ishq ki maar badi dard

मेहदी हसन

Kuch Hosh Ganwane ke churche

मेहदी हसन

Main hosh mein tha to phir uspe mar gaya kaise

मेहदी हसन

meri tarah udaas

मेहदी हसन

Tujhse milkar isqadar apno se begaane hue

मेहदी हसन

Wo to na mil sake hamen

मेहदी हसन

Woh to na mil sake hume rusvaiyan mili

मेहदी हसन

Yun na mil mujhse khafa ho jaise

मेहदी हसन

यारो किसी क़ातिल से कभी प्यार न माँगो

मेहदी हसन

मेहदी हसन

मेहदी हसन

मेहदी हसन

jab tak dahan-e-zaKHm na paida kare koi

मेहदी हसन

koi din gar zindagani aur hai

मेहदी हसन

अजब जुनून-ए-मसाफ़त में घर से निकला था

मेहदी हसन

अपने हाथों की लकीरों में सजा ले मुझ को

मेहदी हसन

अब के हम बिछड़े तो शायद कभी ख़्वाबों में मिलें

मेहदी हसन

अर्ज़-ए-नियाज़-ए-इश्क़ के क़ाबिल नहीं रहा

मेहदी हसन

आए कुछ अब्र कुछ शराब आए

मेहदी हसन

आगे बढ़े न क़िस्सा-ए-इश्क़-ए-बुताँ से हम

मेहदी हसन

आह को चाहिए इक उम्र असर होते तक

मेहदी हसन

इक ख़लिश को हासिल-ए-उम्र-ए-रवाँ रहने दिया

मेहदी हसन

उज़्र आने में भी है और बुलाते भी नहीं

मेहदी हसन

उल्टी हो गईं सब तदबीरें कुछ न दवा ने काम किया

मेहदी हसन

कुछ दर्द है मुतरिबों की लय में

मेहदी हसन

कू-ब-कू फैल गई बात शनासाई की

मेहदी हसन

क्या भला मुझ को परखने का नतीजा निकला

मेहदी हसन

काम आख़िर जज़्बा-ए-बे-इख़्तियार आ ही गया

मेहदी हसन

खुली है कुंज-ए-क़फ़स में मिरी ज़बाँ सय्याद

मेहदी हसन

ग़ज़ब किया तिरे वअ'दे पे ए'तिबार किया

मेहदी हसन

गो ज़रा सी बात पर बरसों के याराने गए

मेहदी हसन

चलते हो तो चमन को चलिए कहते हैं कि बहाराँ है

मेहदी हसन

चली अब गुल के हाथों से लुटा कर कारवाँ अपना

मेहदी हसन

जब भी घर की छत पर जाएँ नाज़ दिखाने आ जाते हैं

मेहदी हसन

जल भी चुके परवाने हो भी चुकी रुस्वाई

मेहदी हसन

ज़िंदगी को न बना लें वो सज़ा मेरे बाद

मेहदी हसन

जो चाहते हो सो कहते हो चुप रहने की लज़्ज़त क्या जानो

मेहदी हसन

जो थके थके से थे हौसले वो शबाब बन के मचल गए

मेहदी हसन

तुम आए हो न शब-ए-इंतिज़ार गुज़री है

मेहदी हसन

तुम्हारे ख़त में नया इक सलाम किस का था

मेहदी हसन

ताज़ा हवा बहार की दिल का मलाल ले गई

मेहदी हसन

देख तो दिल कि जाँ से उठता है

मेहदी हसन

दफ़्न जब ख़ाक में हम सोख़्ता-सामाँ होंगे

मेहदी हसन

दाइम पड़ा हुआ तिरे दर पर नहीं हूँ मैं

मेहदी हसन

दिल की बात लबों पर ला कर अब तक हम दुख सहते हैं

मेहदी हसन

दिल में अब यूँ तिरे भूले हुए ग़म आते हैं

मेहदी हसन

दिल में पोशीदा तप-ए-इश्क़-ए-बुताँ रखते हैं

मेहदी हसन

दीवाना बनाना है तो दीवाना बना दे

मेहदी हसन

न सियो होंट न ख़्वाबों में सदा दो हम को

मेहदी हसन

नक़्श-ए-ख़याल दिल से मिटाया नहीं हनूज़

मेहदी हसन

नसीम है तिरे कूचे में और सबा भी है

मेहदी हसन

फ़िक्र ही ठहरी तो दिल को फ़िक्र-ए-ख़ूबाँ क्यूँ न हो

मेहदी हसन

बे-क़रारी सी बे-क़रारी है

मेहदी हसन

मैं ख़याल हूँ किसी और का मुझे सोचता कोई और है

मेहदी हसन

मैं नज़र से पी रहा हूँ ये समाँ बदल न जाए

मेहदी हसन

मेरी आहों में असर है कि नहीं देख तो लूँ

मेहदी हसन

मुँह तका ही करे है जिस तिस का

मेहदी हसन

मेंहदी हसन

मेहदी हसन

ये क्या तिलिस्म है दुनिया पे बार गुज़री है

मेहदी हसन

या मुझे अफ़सर-ए-शाहाना बनाया होता

मेहदी हसन

रंग पैराहन का ख़ुशबू ज़ुल्फ़ लहराने का नाम

मेहदी हसन

रंजिश ही सही दिल ही दुखाने के लिए आ

मेहदी हसन

ला फिर इक बार वही बादा ओ जाम ऐ साक़ी

मेहदी हसन

वहशत-ए-दिल ने किया है वो बयाबाँ पैदा

मेहदी हसन

वो जो हम में तुम में क़रार था तुम्हें याद हो कि न याद हो

मेहदी हसन

वो दिल-नवाज़ है लेकिन नज़र-शनास नहीं

मेहदी हसन

वो दिल-नवाज़ है लेकिन नज़र-शनास नहीं

मेहदी हसन

वो हर्फ़-ए-राज़ कि मुझ को सिखा गया है जुनूँ

मेहदी हसन

शाम-ए-फ़िराक़ अब न पूछ आई और आ के टल गई

मेहदी हसन

शो'ला था जल-बुझा हूँ हवाएँ मुझे न दो

मेहदी हसन

सुन तो सही जहाँ में है तेरा फ़साना क्या

मेहदी हसन

सादगी पर उस की मर जाने की हसरत दिल में है

मेहदी हसन

हम ने की है तौबा और धूमें मचाती है बहार

मेहदी हसन

हम पर जफ़ा से तर्क-ए-वफ़ा का गुमाँ नहीं

मेहदी हसन

हम समझते हैं आज़माने को

मेहदी हसन

हम ही में थी न कोई बात याद न तुम को आ सके

मेहदी हसन

हैरतों के सिलसिले सोज़-ए-निहाँ तक आ गए

मेहदी हसन

हैराँ हूँ दिल को रोऊँ कि पीटूँ जिगर को मैं

मेहदी हसन

हस्ती अपनी हबाब की सी है

मेहदी हसन

हुस्न को वुसअतें जो दीं इश्क़ को हौसला दिया

मेहदी हसन

हुस्न ग़म्ज़े की कशाकश से छुटा मेरे बा'द

मेहदी हसन

हादसा वो जो अभी पर्दा-ए-अफ़्लाक में है

मेहदी हसन

उस बज़्म में मुझे नहीं बनती हया किए

मेहदी हसन

परेशाँ हो के मेरी ख़ाक आख़िर दिल न बन जाए

मेहदी हसन

"कराची" के और कलाकार

  • नूर जहाँ नूर जहाँ