आज के चुनिन्दा 5 शेर

मोहब्बत तिरे अंजाम पे रोना आया

जाने क्यूँ आज तिरे नाम पे रोना आया

Love your sad conclusion makes me weep

Wonder why your mention makes me weep

Love your sad conclusion makes me weep

Wonder why your mention makes me weep

शकील बदायुनी

मुड़ के देखा तो हमें छोड़ के जाती थी हयात

हम ने जाना था कोई बोझ गिरा है सर से

ज़ाहिदा ज़ैदी

देखें क़रीब से भी तो अच्छा दिखाई दे

इक आदमी तो शहर में ऐसा दिखाई दे

ज़फ़र गोरखपुरी

कहीं ज़मीं से तअल्लुक़ ख़त्म हो जाए

बहुत ख़ुद को हवा में उछालिए साहिब

राजेन्द्र नाथ रहबर
  • शेयर कीजिए

हम जिस के हो गए वो हमारा हो सका

यूँ भी हुआ हिसाब बराबर कभी कभी

आल-ए-अहमद सूरूर
आज का शब्द

आज़ार

  • aazaar
  • آزار

शब्दार्थ

ailment/ hardship

तदबीर मेरे इश्क़ की क्या फ़ाएदा तबीब

अब जान ही के साथ ये आज़ार जाएगा

शब्दकोश
आर्काइव

स्मृति

पुण्य तिथि

सबसे गर्म मिज़ाज प्रगतिशील शायर जिन्हें शायर-ए-इंकि़लाब (क्रांति-कवि) कहा जाता है

अलबेली सुब्ह

नज़र झुकाए उरूस-ए-फ़ितरत जबीं से ज़ुल्फ़ें हटा रही है

पूर्ण नज़्म देखें
पसंदीदा विडियो
This video is playing from YouTube

अन्‍नू कपूर

Urdu in Indian Film Lyrics I Jashn-e-Rekhta 2017

इस विडियो को शेयर कीजिए

ई-पुस्तकें

Nisar Ahmad Farooqi Number: Shumara Number-009,010

फ़े सीन एजाज़ 

2002 Insha,Kolkata

Nisar Ahmad Farooqi Number: Shumara Number-009,010

फ़े सीन एजाज़ 

2002 Insha,Kolkata

Adab Aur Tasavvuf

हयात अामिर हुसैनी 

1991 सूफ़ीवाद/रहस्यवाद

Adab Aur Tasavvuf

हयात अामिर हुसैनी 

1991 सूफ़ीवाद/रहस्यवाद

कचकोल तरजमा कशकोल कलीमी उर्दू

कलीमुल्लाह शाह जहाँ बादी 

1877 सूफ़ीवाद/रहस्यवाद

आधा गाँव

राही मासूम रज़ा 

2003 नॉवेल / उपन्यास

दीवान-ए-रासिख़ अज़ीमाबादी

शकेब अयाज़ 

2006 दीवान

आधा गाँव

राही मासूम रज़ा 

2003 नॉवेल / उपन्यास

दीवान-ए-रासिख़ अज़ीमाबादी

शकेब अयाज़ 

2006 दीवान

कचकोल तरजमा कशकोल कलीमी उर्दू

कलीमुल्लाह शाह जहाँ बादी 

1877 सूफ़ीवाद/रहस्यवाद

अन्य ई-पुस्तकें

नया क्या है

हम से जुड़िये

न्यूज़लेटर

* रेख़्ता आपके ई-मेल का प्रयोग नियमित अपडेट के अलावा किसी और उद्देश्य के लिए नहीं करेगा

Added to your favorites

Removed from your favorites