पसंदीदा विडियो

इन्तिज़ार हुसैन

In conversation with Asif Farrukhi : Jashn-e-Rekhta 2015

इस विडियो को शेयर कीजिए

आज के टॉप 5

शिकम की आग लिए फिर रही है शहर-ब-शहर

सग-ए-ज़माना हैं हम क्या हमारी हिजरत क्या

इफ़्तिख़ार आरिफ़

मैं ने कहा कि देख ये मैं ये हवा ये रात

उस ने कहा कि मेरी पढ़ाई का वक़्त है

अहमद मुश्ताक़

सब को दुनिया की हवस ख़्वार लिए फिरती है

कौन फिरता है ये मुर्दार लिए फिरती है

शेख़ इब्राहीम ज़ौक़

ये काएनात अभी ना-तमाम है शायद

कि रही है दमादम सदा-ए-कुन-फ़यकूँ

अल्लामा इक़बाल

कभी यक-ब-यक तवज्जोह कभी दफ़अतन तग़ाफ़ुल

मुझे आज़मा रहा है कोई रुख़ बदल बदल कर

शकील बदायुनी
आर्काइव
आज का शब्द

निसाब

  • nisaab
  • نصاب

शब्दार्थ

Curriculum/ syllabus

कुछ इश्क़ के निसाब में कमज़ोर हम भी हैं

कुछ पर्चा-ए-सवाल भी आसान चाहिए

शब्द शेयर कीजिए

आर्काइव

आज की प्रस्तुति

प्रमुख आलोचक, अपनी बेबाकी और परम्परा-विरोध के लिए विख्यात

बदल के रख देंगे ये तसव्वुर कि आदमी का वक़ार क्या है

ख़ला में वो चाँद नाचता है ज़माँ मकाँ का हिसार क्या है

पूर्ण ग़ज़ल देखें

बाक़र मेहदी के बारे में शेयर कीजिए

ई-पुस्तकालय

उर्दू साहित्य का सबसे बड़ा ऑनलाइन संग्रह

शुमारा नम्बर-003

आरिफ़ अब्दुल मतीन 

1967 औराक़

बाल-ए-जिबरील

अल्लामा इक़बाल 

1944 काव्य संग्रह

आन्ना कारीनीना

लेव तालस्तोय 

2013 नॉवेल / उपन्यास

Chekhov Ki Duniya

आंतोन चेखव 

1992 नाटक / ड्रामा

पतझड़ कि आवाज़

कुर्रतुलऐन हैदर 

2011 पाठ्य पुस्तक

ई-पुस्तकालय

नया क्या है

550+

ग़ज़लें

अभी पढ़िए

200+

नज़्म

अभी पढ़िए

हम से जुड़िये

न्यूज़लेटर

* रेख़्ता आपके ई-मेल का प्रयोग नियमित अपडेट के अलावा किसी और उद्देश्य के लिए नहीं करेगा

Favroite added successfully

Favroite removed successfully