आज के चुनिन्दा 5 शेर

मैं समझा आप आए कहीं से

पसीना पोछिए अपनी जबीं से

अनवर देहलवी
  • शेयर कीजिए

क्यूँ परखते हो सवालों से जवाबों को 'अदीम'

होंट अच्छे हों तो समझो कि सवाल अच्छा है

अदीम हाशमी

ज़ेहन में याद के घर टूटने लगते हैं 'शहाब'

लोग हो जाते हैं जी जी के पुराने कितने

मुस्तफ़ा शहाब
  • शेयर कीजिए

ज़िंदगी क्या है अनासिर में ज़ुहूर-ए-तरतीब

मौत क्या है इन्हीं अज्ज़ा का परेशाँ होना

चकबस्त ब्रिज नारायण

ग़ैरों से कहा तुम ने ग़ैरों से सुना तुम ने

कुछ हम से कहा होता कुछ हम से सुना होता

चराग़ हसन हसरत
आज का शब्द

शबाब

  • shabaab
  • شباب

शब्दार्थ

youth, prime of life

अदा आई जफ़ा आई ग़ुरूर आया हिजाब आया

हज़ारों आफ़तें ले कर हसीनों पर शबाब आया

शब्दकोश
आर्काइव

आज की प्रस्तुति

स्वतंत्रता सेनानी और संविधान सभा के सदस्य। ' इंक़िलाब ज़िन्दाबाद ' का नारा दिया। कृष्ण भक्त , अपनी ग़ज़ल ' चुपके चुपके, रात दिन आँसू बहाना याद है ' के लिए प्रसिद्ध

रौशन जमाल-ए-यार से है अंजुमन तमाम

दहका हुआ है आतिश-ए-गुल से चमन तमाम

पूर्ण ग़ज़ल देखें
पसंदीदा विडियो
This video is playing from YouTube

दिबांग

Discussion on Sant Kabir's poetry | Dibang , Abdul Bismillah & Purushottam Agarwal | Jashn-e-Rekhta

इस विडियो को शेयर कीजिए

ई-पुस्तकें

Ardhanarishwar

विष्णु प्रभाकर 

1998 नॉवेल / उपन्यास

Muntahaye Ishq

शहनाज़ मुज़म्मिल 

2019 महाकाव्य

Nai Purani Kitabein

सफ़दर इमाम क़ादरी 

2013

Shumara Number-006

अबरार रहमानी 

2011 आज कल

Apne Dukh Mujhe De Do

राजिंदर सिंह बेदी 

1997 फ़िक्शन

अन्य ई-पुस्तकें

नया क्या है

हम से जुड़िये

न्यूज़लेटर

* रेख़्ता आपके ई-मेल का प्रयोग नियमित अपडेट के अलावा किसी और उद्देश्य के लिए नहीं करेगा