आज के चुनिन्दा 5 शेर

सुर्ख़-रू होता है इंसाँ ठोकरें खाने के बा'द

रंग लाती है हिना पत्थर पे पिस जाने के बा'द

सय्यद मोहम्मद मस्त कलकत्तवी
  • शेयर कीजिए

उठो ये मंज़र-ए-शब-ताब देखने के लिए

कि नींद शर्त नहीं ख़्वाब देखने के लिए

इरफ़ान सिद्दीक़ी

सैर कर दुनिया की ग़ाफ़िल ज़िंदगानी फिर कहाँ

ज़िंदगी गर कुछ रही तो ये जवानी फिर कहाँ

ख़्वाजा मीर 'दर्द'

मिरी अपनी और उस की आरज़ू में फ़र्क़ ये था

मुझे बस वो उसे सारा ज़माना चाहिए था

बुशरा एजाज़

करूँगा क्या जो मोहब्बत में हो गया नाकाम

मुझे तो और कोई काम भी नहीं आता

ग़ुलाम मोहम्मद क़ासिर
आज का शब्द

शिकन

  • shikan
  • شکن

शब्दार्थ

wrinkle/ fold

शिकन डाल जबीं पर शराब देते हुए

ये मुस्कुराती हुई चीज़ मुस्कुरा के पिला

शब्दकोश
आर्काइव

आज की प्रस्तुति

सबसे महत्वपूर्ण आधुनिक शायरों में शामिल, अपने नव-क्लासिकी लहजे के लिए विख्यात।

उठो ये मंज़र-ए-शब-ताब देखने के लिए

कि नींद शर्त नहीं ख़्वाब देखने के लिए

पूर्ण ग़ज़ल देखें
पसंदीदा विडियो
This video is playing from YouTube

इम्तियाज अली

Bhagavad Gita : Tasavvur Aur Haqiqat | Jashn-e-Rekhta 4th Edition 2017

इस विडियो को शेयर कीजिए

ई-पुस्तकें

दीवान-ए-अमीर

अमीर मीनाई 

1922 दीवान

Ramayan Yak Qafiya Manzuma-e-Ufuq

उफ़ुक़ लखनवी 

1914 अनुवाद

राजा बीरबर की मुकम्मल सवानेह उम्री और लताएफ़

 

1903 मुंशी नवल किशोर के प्रकाशन

Deewan-e-Ghalib

मिर्ज़ा ग़ालिब 

1997 दीवान

Deewan-e-Zafar

बहादुर शाह ज़फ़र 

1869 दीवान

अन्य ई-पुस्तकें

नया क्या है

हम से जुड़िये

न्यूज़लेटर

* रेख़्ता आपके ई-मेल का प्रयोग नियमित अपडेट के अलावा किसी और उद्देश्य के लिए नहीं करेगा

Added to your favorites

Removed from your favorites