पसंदीदा विडियो

अनवर मसूद

Anwar masood: Jashn-e-Rekhta 2016

इस विडियो को शेयर कीजिए

आज के टॉप 5

कुछ लोग जो ख़ामोश हैं ये सोच रहे हैं

सच बोलेंगे जब सच के ज़रा दाम बढ़ेंगे

कमाल अहमद सिद्दीक़ी
  • शेयर कीजिए

मोहब्बत की सज़ा तर्क-ए-मोहब्बत

मोहब्बत का यही इनआम भी है

वामिक़ जौनपुरी

मौत उस की है करे जिस का ज़माना अफ़्सोस

यूँ तो दुनिया में सभी आए हैं मरने के लिए

अज्ञात
  • शेयर कीजिए

काश देखो कभी टूटे हुए आईनों को

दिल शिकस्ता हो तो फिर अपना पराया क्या है

उबैदुल्लाह अलीम

पहले इस में इक अदा थी नाज़ था अंदाज़ था

रूठना अब तो तिरी आदत में शामिल हो गया

आग़ा शाएर क़ज़लबाश
  • शेयर कीजिए
आर्काइव
आज का शब्द

हिज्र

  • hijr
  • ہجر

शब्दार्थ

Separation/ parting

मुमकिना फ़ैसलों में एक हिज्र का फ़ैसला भी था

हम ने तो एक बात की उस ने कमाल कर दिया

शब्द शेयर कीजिए

आर्काइव

आज की प्रस्तुति

अग्रणी एवं प्रख्यात प्रगतिशील शायर, रोमांटिक और क्रांतिकारी नज़्मों के लिए प्रसिद्ध, ऑल इंडिया रेडियो की पत्रिका “आवाज” के पहले संपादक, मशहूर शायर और गीतकार जावेद अख़्तर के मामा

कुछ तुझ को ख़बर है हम क्या क्या शोरिश-ए-दौराँ भूल गए

वो ज़ुल्फ़-ए-परेशाँ भूल गए वो दीदा-ए-गिर्यां भूल गए

पूर्ण ग़ज़ल देखें

असरार-उल-हक़ मजाज़ के बारे में शेयर कीजिए

ई-पुस्तकालय

उर्दू साहित्य का सबसे बड़ा ऑनलाइन संग्रह

अन्न-दाता

कृष्ण चन्द्र 

2004 पाठ्य पुस्तक

यादों की बरात

जोश मलीहाबादी 

1970 आप बीती

शुमारा नम्बर-068

अक़ीला शाहीन 

1972 शब ख़ून

अकबर इलाहाबादी के लतीफ़े

नादिम सीतापुरी 

1954 हास्य-व्यंग

महाभारत

दुवारिका प्रसाद उफ़ुक़ 

1933 महा-काव्य

ई-पुस्तकालय

नया क्या है

1050+

ग़ज़लें

अभी पढ़िए

50+

नज़्म

अभी पढ़िए

1850+

ई-पुस्तक

अभी पढ़िए

हम से जुड़िये

न्यूज़लेटर

* रेख़्ता आपके ई-मेल का प्रयोग नियमित अपडेट के अलावा किसी और उद्देश्य के लिए नहीं करेगा

rekhta_logo

Favroite added successfully

Favroite removed successfully