Sharib Rudaulvi's Photo'

Sharib Rudaulvi

1935 | Delhi, India

Sharib Rudaulvi

Ghazal 2

 

Article 10

Quote 6

इससे इनकार नहीं किया जा सकता कि मर्सिये से इंसानी दुनिया को एक अज़ीम-उश्-शान अख़लाक़ी-ओ-तहज़ीबी दर्स ‎मिलता है।

  • Share this

कोई सिन्फ़ अपने अहद के समाजियाती असरात से क़तई' तौर पर बाहर नहीं रह सकती। कोई अदब क़ुव्वत-ए-अस्र ‎की नफ़ी करके अपने‏‎ क़ारी के जज़्बात तक नहीं पहुँच सकता।‏

  • Share this

मर्सिया-गोई का वजूद-ए-दुनिया के वजूद के साथ हुआ होगा। इसलिए कि ख़ुशी और ग़म, यही इंसानियत के दो सब ‎से ज़्यादा नुमायाँ ‎‏पहलू हैं।

  • Share this

तसव्वुफ़ मज़हब-ए-आज़ादगी है, जिसमें हर पाबंदी से इंसान अपने को आज़ाद कर लेता है। यहाँ तक कि मज़हबी ‎अ'क़ाइद भी इस की निगाह में कोई वक़'अत नहीं रहती।

  • Share this

हर तहज़ीब की ज़बान अलग होती है बल्कि ये कहना मुनासिब होगा कि हर ज़माने की ज़बान का अपना एक कल्चर ‎होता है।

  • Share this

BOOKS 216

More Artists From "Delhi"

 

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI

Speak Now