Sharib Rudaulvi's Photo'

शारिब रुदौलवी

1935 | दिल्ली, भारत

लेख 10

उद्धरण 6

इससे इनकार नहीं किया जा सकता कि मर्सिये से इंसानी दुनिया को एक अज़ीम-उश्-शान अख़लाक़ी-ओ-तहज़ीबी दर्स ‎मिलता है।

  • शेयर कीजिए

कोई सिन्फ़ अपने अहद के समाजियाती असरात से क़तई' तौर पर बाहर नहीं रह सकती। कोई अदब क़ुव्वत-ए-अस्र ‎की नफ़ी करके अपने‏‎ क़ारी के जज़्बात तक नहीं पहुँच सकता।‏

  • शेयर कीजिए

हर तहज़ीब की ज़बान अलग होती है बल्कि ये कहना मुनासिब होगा कि हर ज़माने की ज़बान का अपना एक कल्चर ‎होता है।

  • शेयर कीजिए

तसव्वुफ़ मज़हब-ए-आज़ादगी है, जिसमें हर पाबंदी से इंसान अपने को आज़ाद कर लेता है। यहाँ तक कि मज़हबी ‎अ'क़ाइद भी इस की निगाह में कोई वक़'अत नहीं रहती।

  • शेयर कीजिए

मर्सिया-गोई का वजूद-ए-दुनिया के वजूद के साथ हुआ होगा। इसलिए कि ख़ुशी और ग़म, यही इंसानियत के दो सब ‎से ज़्यादा नुमायाँ ‎‏पहलू हैं।

  • शेयर कीजिए

पुस्तकें 174

1857 : Nekat Aur Jihat

 

2008

Aabgeena

 

2014

Aakhri Darvesh

 

1993

Aangan Mein Chand

 

2007

Aashnaiyan

 

2000

Aazadi Ke Bad Delhi Mein Urdu Tanqeed

 

1991

अदबी समाजियात

 

1983

Adeeb, Muhaqqiq, Sahafi, Chaudhary Sibt Mohammad Naqwi

 

2005

Afkaar-e-Sauda

Intikhab-e-Sauda Ma Tanqeed

1972

अफ़्साने

 

2008

"दिल्ली" के और कलाकार

  • गुरमीत मोक्ष गुरमीत मोक्ष