कैफ़ी आज़मी शायरी

लोकप्रिय प्रमुख प्रगतिशील शायर और फि़ल्म गीतकार/हीर राँझा और काग़ज़ के फूल के गीतों के लिए प्रसिद्ध

2.59K
Favorite

श्रेणीबद्ध करें

औरत

उठ मिरी जान मिरे साथ ही चलना है तुझे

कैफ़ी आज़मी

दाएरा

रोज़ बढ़ता हूँ जहाँ से आगे

कैफ़ी आज़मी

मकान

आज की रात बहुत गर्म हवा चलती है

कैफ़ी आज़मी

दूसरा बन-बास

राम बन-बास से जब लौट के घर में आए

कैफ़ी आज़मी

चराग़ाँ

एक दो ही नहीं छब्बीस दिए

कैफ़ी आज़मी