afadaat-e-ghalib

मिर्ज़ा ग़ालिब

सय्यद इज़हार-उल-हसन रिज़्वी
1969 | अन्य
  • सहयोगी

    ग़ालिब अकेडमी, देहली

  • पृष्ठ

    358

लेखक: परिचय

मिर्ज़ा ग़ालिब

मीर तक़ी मीरके बाद उर्दू के सबसे बड़े शाइ, विश्व-कविता में उर्दू के हस्ताक्षर। शाइरी और ज़िंदगी दोनों में परम्परा-विरोधीअंदाज़ के लिए प्रख्यात। माली तौर पर परेशान और क़र्ज़ न लौटाने के कारण बार बार क़ानूनी कारवाई के शिकार रहे। जुवा खेलने खिलाने के इल्ज़ाम में क़ैद की सज़ा काटी। ज़ौक़के बाद बादशाह बहादुर शाह ज़फ़रके उस्ताद रहे।

.....और पढ़िए

लेखक की अन्य पुस्तकें

पूरा देखिए

लोकप्रिय और ट्रेंडिंग

पूरा देखिए

पुस्तकों की तलाश निम्नलिखित के अनुसार

पुस्तकें विषयानुसार

शायरी की पुस्तकें

पत्रिकाएँ

पुस्तक सूची

लेखकों की सूची

विश्वविद्यालय उर्दू पाठ्यक्रम