aaj ik aur baras biit gayā us ke baġhair

jis ke hote hue hote the zamāne mere

रद करें डाउनलोड शेर
noImage

सरदार गेंडा सिंह मशरिक़ी

1857 - 1909

सरदार गेंडा सिंह मशरिक़ी

ग़ज़ल 25

अशआर 30

खोला दरवाज़ा समझ कर मुझ को ग़ैर

खा गए धोका मिरी आवाज़ से

  • शेयर कीजिए

फाड़ कर ख़त उस ने क़ासिद से कहा

कोई पैग़ाम-ए-ज़बानी और है

  • शेयर कीजिए

आशिक़-मिज़ाज रहते हैं हर वक़्त ताक में

सीना को इस तरह से उभारा कीजिए

  • शेयर कीजिए

शैख़ चल तू शराब-ख़ाने में

मैं तुझे आदमी बना दूँगा

  • शेयर कीजिए

पीते हैं जो शराब मस्जिद में

ऐसे लोगों को पारसा कहिए

पुस्तकें 2

 

Recitation

Jashn-e-Rekhta | 8-9-10 December 2023 - Major Dhyan Chand National Stadium, Near India Gate - New Delhi

GET YOUR PASS
बोलिए