ग़ज़लें

1926 -1982

नई ग़ज़ल के अग्रणी पाकिस्तानी शायरों में विख्यात।

1956 -2016

प्रमुख उत्तर-आधुनिक शायर

1948

दक्षिण भारत के लोकप्रिय शायर और कथाकार.

1756 -1835

उर्दू शायरी की विधा ' रेख़्ती ' के लिए प्रसिद्ध जिसमें शायर औरतों की भाषा में बोलता है

1785 -1869

उन्नीसवीं सदी के प्रमुख कथाकार/अपनी रचना ‘फ़साना-ए-अजाएब’ के लिए प्रसिद्ध

1863 -1923

उर्दू शायरी में अज़ीमाबाद की ख़ास पहचान स्थापित करने वालों में एक अहम नाम। 'शम्सुल उलेमा' एवं 'ख़ान बहादुर' की उपाधियों से सम्मानित