noImage

आमिल दरवेश

ख़ुदा का मतलब है ख़ुद में तू ख़ुद-आगही है ख़ुदा-शनासी

ख़ुदा को ख़ुद से जुदा समझ कर भटक रहा है इधर उधर क्यूँ

Added to your favorites

Removed from your favorites