noImage

अब्बास कैफ़ी

ख़्वाब-गह में सियाह ख़ुशबू था

इत्तिफ़ाक़न चराग़ भी गुल था