Abdullah Javed's Photo'

अब्दुल्लाह जावेद

1931

शायर और अदीब, बच्चों के अदब के साथ साहित्यिक व सामाजिक विषयों पर आलेख भी लिखे

शायर और अदीब, बच्चों के अदब के साथ साहित्यिक व सामाजिक विषयों पर आलेख भी लिखे

अब्दुल्लाह जावेद के शेर

708
Favorite

श्रेणीबद्ध करें

साहिल पे लोग यूँही खड़े देखते रहे

दरिया में हम जो उतरे तो दरिया उतर गया

फिर नई हिजरत कोई दरपेश है

ख़्वाब में घर देखना अच्छा नहीं

तुम अपने अक्स में क्या देखते हो

तुम्हारा अक्स भी तुम सा नहीं है

इस ही बुनियाद पर क्यूँ मिल जाएँ हम

आप तन्हा बहुत हम अकेले बहुत

कर्बला में रुख़-ए-असग़र की तरफ़

तीर चलते नहीं देखे जाते

जब थी मंज़िल नज़र में तो रस्ता था एक

गुम हुई है जो मंज़िल तो रस्ते बहुत

सजाते हो बदन बेकार 'जावेद'

तमाशा रूह के अंदर लगेगा

आप के जाते ही हम को लग गई आवारगी

आप के जाते ही हम से घर नहीं देखा गया

शाइरी पेट की ख़ातिर 'जावेद'

बीच बाज़ार के बैठी है

अश्क ढलते नहीं देखे जाते

दिल पिघलते नहीं देखे जाते

यक़ीं का दाएरा देखा है किस ने

गुमाँ के दाएरे में क्या नहीं है

ज़मीं को और ऊँचा मत उठाओ

ज़मीं का आसमाँ से सर लगेगा

हर इक रस्ते पे चल कर सोचते हैं

ये रस्ता जा रहा है अपने घर क्या

देखते हम भी हैं कुछ ख़्वाब मगर हाए रे दिल

हर नए ख़्वाब की ता'बीर से डर जाता है

तर्क करनी थी हर इक रस्म-ए-जहाँ

हाँ मगर रस्म-ए-वफ़ा रखनी ही थी

कभी सोचा है मिट्टी के अलावा

हमें कहते हैं ये दीवार-ओ-दर क्या

मंज़रों के भी परे हैं मंज़र

आँख जो हो तो नज़र जाए जी

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI

बोलिए