Akhtar Shumar's Photo'

अख्तर शुमार

1960 | पाकिस्तान

ग़ज़ल 14

शेर 11

अभी सफ़र में कोई मोड़ ही नहीं आया

निकल गया है ये चुप-चाप दास्तान से कौन

मैं तो इस वास्ते चुप हूँ कि तमाशा बने

तू समझता है मुझे तुझ से गिला कुछ भी नहीं

वो मुस्कुरा के कोई बात कर रहा था 'शुमार'

और उस के लफ़्ज़ भी थे चाँदनी में बिखरे हुए

ऑडियो 3

अभी दिल में गूँजती आहटें मिरे साथ हैं

ज़रा सी देर थी बस इक दिया जलाना था

लरज़ उठा है मिरे दिल में क्यूँ न जाने दिया

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI

 

Added to your favorites

Removed from your favorites