Akhtarul Iman's Photo'

अख़्तरुल ईमान

1915 - 1995 | मुंबई, भारत

आधुनिक उर्दू नज़्म के संस्थापकों में शामिल। अग्रणी फ़िल्म-संवाद लेखक। फ़िल्म ' वक़्त ' और ' क़ानून ' के संवादों के लिए मशहूर। फ़िल्म 'वक़्त' में उनका संवाद ' जिनके घर शीशे के हों वो दूसरों पर पत्थर नहीं फेंकते ' , आज भी ज़बानों पर

आधुनिक उर्दू नज़्म के संस्थापकों में शामिल। अग्रणी फ़िल्म-संवाद लेखक। फ़िल्म ' वक़्त ' और ' क़ानून ' के संवादों के लिए मशहूर। फ़िल्म 'वक़्त' में उनका संवाद ' जिनके घर शीशे के हों वो दूसरों पर पत्थर नहीं फेंकते ' , आज भी ज़बानों पर

अख़्तरुल ईमान की पुस्तकें

15

Aab Joo

Iss Aabad Kharabe Mein

1999

Kulliyat-e-Akhtar-ul-Iman

2000

Kulliyat-e-Akhtar-ul-Iman

2006

Tareek Sayyara

Yadein

1961

Zameen Zameen

1990

Zamistan Sard Mehri Ka

1997

यादें

सर-ओ-सामाँ

1983

अख़्तरुल ईमान पर पुस्तकें

11

Aaj Kal,New Delhi

Shumara Number-007

1994

Akhtar-ul-Iman Aks Aur Jihatein

2000

Akhtar-ul-Iman Ki Das Nazmen Tajziyati Mutala

2010

Girdab : Ek Mutala

2006

Muntakhab Nazmen

1988

Query of The Road

1996

Saughat,Bangalore

Khas Number : Shumara Number-012-014

1963

Saughat,Bangalore

Pahli Kitab

1991

Urdu Duniya,Delhi

Shumara Number-011

2015

मेयार

अख़्तरूल ईमान नंबर

2000

अख़्तरुल ईमान द्वारा संकलित पुस्तकें

1

सेह आतिशा

1992