एक तस्वीर में बैठे हैं दोनों पहलू

मुझ से रूठा हुआ तू तुझ को मनाता हुआ मैं