noImage

अनुराज़

शेर 1

कम-सिनी में तो हसीं अहद-ए-वफ़ा करते हैं

भूल जाते हैं मगर सब जो शबाब आता है

  • शेयर कीजिए