अक़ील शाह के शेर

देखे फ़क़ीरी को कोई शक से हमारी

दीवार में दर बनता है दस्तक से हमारी