noImage

अरमान रज़ा

आरा, भारत

शेर 1

भला है हीरे से पत्थर कि उस में ज़हर नहीं

तुम्हीं कहो तुम्हें किस नाम से पुकारूँ मैं

  • शेयर कीजिए