Athar Nafees's Photo'

अतहर नफ़ीस

1933 - 1980 | कराची, पाकिस्तान

नई ग़ज़ल के महत्वपूर्ण पाकिस्तानी शायर/अपनी ग़ज़ल ‘वो इश्क़ जो हम से छूट गया........’ के लिए प्रसिद्ध जिसे कई गायकों ने आवाज़ दी है

नई ग़ज़ल के महत्वपूर्ण पाकिस्तानी शायर/अपनी ग़ज़ल ‘वो इश्क़ जो हम से छूट गया........’ के लिए प्रसिद्ध जिसे कई गायकों ने आवाज़ दी है

This video is playing from YouTube

वीडियो का सेक्शन
शायर अपना कलाम पढ़ते हुए

अतहर नफ़ीस

'अतहर' तुम ने इश्क़ किया कुछ तुम भी कहो क्या हाल हुआ

अतहर नफ़ीस

बे-नियाज़ाना हर इक राह से गुज़रा भी करो

अतहर नफ़ीस

बे-नियाज़ाना हर इक राह से गुज़रा भी करो

अतहर नफ़ीस

वीडियो का सेक्शन
अन्य वीडियो

ग़ुलाम अली

sochte aur jaagte saanson ka dariya hoon main

sochte aur jaagte saanson ka dariya hoon main ग़ुलाम अली

कभी साया है कभी धूप मुक़द्दर मेरा

कभी साया है कभी धूप मुक़द्दर मेरा अज्ञात

कभी साया है कभी धूप मुक़द्दर मेरा

कभी साया है कभी धूप मुक़द्दर मेरा सुदीप बनर्जी

वो इश्क़ जो हम से रूठ गया अब उस का हाल बताएँ क्या

वो इश्क़ जो हम से रूठ गया अब उस का हाल बताएँ क्या अनवर हुसैन

वो इश्क़ जो हम से रूठ गया अब उस का हाल बताएँ क्या

वो इश्क़ जो हम से रूठ गया अब उस का हाल बताएँ क्या अज्ञात

वो इश्क़ जो हम से रूठ गया अब उस का हाल बताएँ क्या

वो इश्क़ जो हम से रूठ गया अब उस का हाल बताएँ क्या अज्ञात

वो इश्क़ जो हम से रूठ गया अब उस का हाल बताएँ क्या

वो इश्क़ जो हम से रूठ गया अब उस का हाल बताएँ क्या अज्ञात

वो इश्क़ जो हम से रूठ गया अब उस का हाल बताएँ क्या

वो इश्क़ जो हम से रूठ गया अब उस का हाल बताएँ क्या अज्ञात

सुकूत-ए-शब से इक नग़्मा सुना है

सुकूत-ए-शब से इक नग़्मा सुना है अमानत अली ख़ान

शायर अपना कलाम पढ़ते हुए

  • अतहर नफ़ीस

  • 'अतहर' तुम ने इश्क़ किया कुछ तुम भी कहो क्या हाल हुआ

    'अतहर' तुम ने इश्क़ किया कुछ तुम भी कहो क्या हाल हुआ अतहर नफ़ीस

  • बे-नियाज़ाना हर इक राह से गुज़रा भी करो

    बे-नियाज़ाना हर इक राह से गुज़रा भी करो अतहर नफ़ीस

  • बे-नियाज़ाना हर इक राह से गुज़रा भी करो

    बे-नियाज़ाना हर इक राह से गुज़रा भी करो अतहर नफ़ीस

अन्य वीडियो

  • ग़ुलाम अली

  • sochte aur jaagte saanson ka dariya hoon main

    sochte aur jaagte saanson ka dariya hoon main ग़ुलाम अली

  • कभी साया है कभी धूप मुक़द्दर मेरा

    कभी साया है कभी धूप मुक़द्दर मेरा अज्ञात

  • कभी साया है कभी धूप मुक़द्दर मेरा

    कभी साया है कभी धूप मुक़द्दर मेरा सुदीप बनर्जी

  • वो इश्क़ जो हम से रूठ गया अब उस का हाल बताएँ क्या

    वो इश्क़ जो हम से रूठ गया अब उस का हाल बताएँ क्या अनवर हुसैन

  • वो इश्क़ जो हम से रूठ गया अब उस का हाल बताएँ क्या

    वो इश्क़ जो हम से रूठ गया अब उस का हाल बताएँ क्या अज्ञात

  • वो इश्क़ जो हम से रूठ गया अब उस का हाल बताएँ क्या

    वो इश्क़ जो हम से रूठ गया अब उस का हाल बताएँ क्या अज्ञात

  • वो इश्क़ जो हम से रूठ गया अब उस का हाल बताएँ क्या

    वो इश्क़ जो हम से रूठ गया अब उस का हाल बताएँ क्या अज्ञात

  • वो इश्क़ जो हम से रूठ गया अब उस का हाल बताएँ क्या

    वो इश्क़ जो हम से रूठ गया अब उस का हाल बताएँ क्या अज्ञात

  • सुकूत-ए-शब से इक नग़्मा सुना है

    सुकूत-ए-शब से इक नग़्मा सुना है अमानत अली ख़ान