Ayub Sabir's Photo'

अय्यूब साबिर

1923 - 1989 | कोहट, पाकिस्तान

ग़ज़ल 2

 

शेर 2

कहा ये मैं ने भला कब कि मत सज़ा दीजे

मगर क़ुसूर तो मुझ को मिरा बता दीजे

  • शेयर कीजिए

शफ़क़ हूँ सूरज हूँ रौशनी हूँ

सलीब-ए-ग़म पर उभर रहा हूँ

 

पुस्तकें 7

Aazad Kashmir Men Nifaz-e-Urdu

 

1984

अदबिस्तान-ए-हज़ारा

 

1989

इक़बाल दुश्मनी, एक मुताला

 

1993

इक़बाल का उर्दू कलाम

 

2008

इक़बाल की शख्सियत पर एतराज़ात का जाएज़ा

 

2003

Motarizeen-e-Iqbal

 

2004

Pakistan mein Urdu ke Taraqqiyati Idare

 

1985