aaj ik aur baras biit gayā us ke baġhair

jis ke hote hue hote the zamāne mere

रद करें डाउनलोड शेर
Azhar Bakhsh Azhar's Photo'

अज़हर बख़्श अज़हर

1952 | नागपुर, भारत

अज़हर बख़्श अज़हर

ग़ज़ल 10

नज़्म 1

 

अशआर 13

कहो हुस्न-ए-जमाल-यार से ये इतनी सज-धज क्यों

भरी बरसात में पौदों को पानी कौन देता है

  • शेयर कीजिए

जब कमसिन से इश्क़ लड़ाना पड़ता है

बच्चों जैसा पाठ पढ़ाना पड़ता है

  • शेयर कीजिए

ख़ूँ-बहा देते हैं ज़ालिम तख़्त पाने के लिए

लोग कितना गिर गए ख़ुद को उठाने के लिए

  • शेयर कीजिए

हुस्न की देवी बनी बैठी हैं दिल है बुत-कदा

चंद मुस्लिम लड़कियों ने हम को हिन्दू कर दिया

  • शेयर कीजिए

हर वक़्त कसे रहते हैं माओं की पीठ से

गोदी में नहीं खेलते मज़दूर के बच्चे

  • शेयर कीजिए

पुस्तकें 4

 

"नागपुर" के और शायर

Recitation

Jashn-e-Rekhta | 8-9-10 December 2023 - Major Dhyan Chand National Stadium, Near India Gate - New Delhi

GET YOUR PASS
बोलिए