Azm Bahzad's Photo'

अज़्म बहज़ाद

1958 - 2011 | कराची, पाकिस्तान

महत्वपूर्ण और लोकप्रिय पाकिस्तानी शायर/उस्ताद शायर बहज़ाद लखनवी के पोते

महत्वपूर्ण और लोकप्रिय पाकिस्तानी शायर/उस्ताद शायर बहज़ाद लखनवी के पोते

अज़्म बहज़ाद के वीडियो

This video is playing from YouTube

वीडियो का सेक्शन
शायर अपना कलाम पढ़ते हुए

अज़्म बहज़ाद

अज़्म बहज़ाद

अज़्म बहज़ाद

अज़्म बहज़ाद

Azm Behzad - mushaira

अज़्म बहज़ाद

उस आँख से वहशत की तासीर उठा लाया

अज़्म बहज़ाद

कहीं गोयाई के हाथों समाअत रो रही है

अज़्म बहज़ाद

कितने मौसम सरगर्दां थे मुझ से हाथ मिलाने में

अज़्म बहज़ाद

जो बात शर्त-ए-विसाल ठहरी वही है अब वज्ह-ए-बद-गुमानी

अज़्म बहज़ाद

जो बात शर्त-ए-विसाल ठहरी वही है अब वज्ह-ए-बद-गुमानी

अज़्म बहज़ाद

वीडियो का सेक्शन
अन्य वीडियो
कितने मौसम सरगर्दां थे मुझ से हाथ मिलाने में

कितने मौसम सरगर्दां थे मुझ से हाथ मिलाने में सलमान अल्वी

बे-हद ग़म हैं जिन में अव्वल उम्र गुज़र जाने का ग़म

बे-हद ग़म हैं जिन में अव्वल उम्र गुज़र जाने का ग़म बहज़ाद लखनवी

शायर अपना कलाम पढ़ते हुए

  • अज़्म बहज़ाद

  • अज़्म बहज़ाद

  • अज़्म बहज़ाद

  • अज़्म बहज़ाद

  • Azm Behzad - mushaira

    Azm Behzad - mushaira अज़्म बहज़ाद

  • उस आँख से वहशत की तासीर उठा लाया

    उस आँख से वहशत की तासीर उठा लाया अज़्म बहज़ाद

  • कहीं गोयाई के हाथों समाअत रो रही है

    कहीं गोयाई के हाथों समाअत रो रही है अज़्म बहज़ाद

  • कितने मौसम सरगर्दां थे मुझ से हाथ मिलाने में

    कितने मौसम सरगर्दां थे मुझ से हाथ मिलाने में अज़्म बहज़ाद

  • जो बात शर्त-ए-विसाल ठहरी वही है अब वज्ह-ए-बद-गुमानी

    जो बात शर्त-ए-विसाल ठहरी वही है अब वज्ह-ए-बद-गुमानी अज़्म बहज़ाद

  • जो बात शर्त-ए-विसाल ठहरी वही है अब वज्ह-ए-बद-गुमानी

    जो बात शर्त-ए-विसाल ठहरी वही है अब वज्ह-ए-बद-गुमानी अज़्म बहज़ाद

अन्य वीडियो

  • कितने मौसम सरगर्दां थे मुझ से हाथ मिलाने में

    कितने मौसम सरगर्दां थे मुझ से हाथ मिलाने में सलमान अल्वी

  • बे-हद ग़म हैं जिन में अव्वल उम्र गुज़र जाने का ग़म

    बे-हद ग़म हैं जिन में अव्वल उम्र गुज़र जाने का ग़म बहज़ाद लखनवी