noImage

बज़्म अकबराबादी

बज़्म अकबराबादी

अशआर 1

चंद तस्वीर-ए-बुताँ चंद हसीनों के ख़ुतूत

बा'द मरने के मिरे घर से ये सामाँ निकला

  • शेयर कीजिए
 

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI

बोलिए