Ehtimam Sadiq's Photo'

एहतिमाम सादिक़

1993 | बलरामपुर, भारत

250
Favorite

श्रेणीबद्ध करें

एक दिन उस को मुँह लगाया और

और सिगरेट छोड़ दी मैं ने

अब अपना इंतिज़ार रहेगा तमाम-उम्र

इक शख़्स था जो मुझ से जुदा कर गया मुझे

मुझ को थी महफ़िलों की बहुत आरज़ू मगर

तन्हाइयों के ख़ौफ़ से तन्हा रहा हूँ मैं

सो अपने शहर के रौनक़ की ख़ैर माँगना तुम

मैं अपने गाँव से इक शाम ले के रहा हूँ

अश्क कर ज़ुल्म ज़रा देर ठहर जा

इक शख़्स अभी मेरी निगाहों में बसा है

तू तुम समझने लगे हिज्र के मआ'नी को

तुम्हारी भी कोई शय तुम से छीन ली गई क्या

वो शख़्स यादों का मुझ को ग़ुलाम करते हुए

गया भी तो मिरी नींदें हराम करते हुए

कौन सा दर्द उतर आया है तहरीरों में

सारे अल्फ़ाज़ जनाज़े की तरह लगते हैं

मेरी रातों से परे दूर वो महताब सा जिस्म

उस को सोचूँ तो मिरे ख़्वाब भी जल जाते हैं

क्या कहूँ कैफ़िय्यत-ए-दिल किस क़दर टूटा हूँ मैं

अब अगर चाहा गया तो रेत में मिल जाऊँगा

मुसलसल सोचते रहते हैं तुम को

तुम्हें जीने की आदत हो गई है

अब इबादत में भी जाते हो लब पर मेरे

इतना पढ़ता हूँ तुम्हें हिज्र के लम्हों में कि बस

डराते हो हमें क्या शैख़ तुम रोज़-ए-क़यामत से

दर-ए-जानाँ पे हम ने हश्र बरपा ख़ूब देखा है

हद्द-ए-नज़र तक एक दरीचे से आज फिर

मैं जा रहा था और कोई देखता रहा

मेरा सुक़रात को पढ़ना भी क़यामत ठहरा

ज़हर दे कर मिरे अपनों ने मुझे मार दिया

सर-ए-महफ़िल वो फिर से गए हैं आज बे-पर्दा

जाने कौन सी शय फिर मिरी तक़्सीम होनी है

नहीं है ज़िंदगी तुझ से कोई भी वास्ता लेकिन

तलाशेगी तो मिल जाऊँगा तेरी हर कहानी में

लबों ने उस के भी गुस्ताख़ियाँ बहुत की हैं

ये और बात कि होंटों की सुर्ख़ियाँ गईं

दिल की लगी से जान भी छूटी तो यूँ हुआ

वो शख़्स ज़िंदगी के तक़ाज़ों से मर गया

आईना तोड़ डाला है अब तेरे अक्स को

तस्वीर कर रहा हूँ तिरी याद जोड़ कर

वो उस नज़र का तसादुम वो होंट की जुम्बिश

तमाम कर गया मुझ को कलाम करते हुए

अगर टूटूँ तो मेरी किर्चियाँ माज़ी को दे देना

कि मुस्तक़बिल में फिर मेरी नई तज्सीम होनी है

पैराहन बाक़ी है मेरे जिस्म पे अब भी उजला सा

शायद इश्क़ मुकम्मल नाज़िल होना अब भी बाक़ी है

वस्ल ने तो मुझे शिद्दत की तपिश में रक्खा

हिज्र था जिस ने मुझे साया-ए-दीवार दिया

किसी के दीद का पैग़ाम ले के रहा हूँ

तवाफ़ के लिए एहराम ले के रहा हूँ