Ejaz Ansari's Photo'

एजाज़ अंसारी

1955 | दिल्ली, भारत

ज़िंदगी दी हिसाब से उस ने

और ग़म बे-हिसाब लिक्खा है

He granted us a life, of limited duration

And then prescribed, unending tribulation

He granted us a life, of limited duration

And then prescribed, unending tribulation

तमाम शहर से मैं जंग जीत सकता हूँ

मगर मैं तुम से बिछड़ते ही हार जाऊँगा