Faizan Hashmi's Photo'

फ़ैज़ान हाशमी

1986 | पाकिस्तान

ग़ज़ल 9

शेर 9

मैं अपनी ख़ुशियाँ अकेले मनाया करता हूँ

यही वो ग़म है जो तुझ से छुपा हुआ है मिरा

  • शेयर कीजिए

बस यही सोच के रहता हूँ मैं ज़िंदा इस में

ये मोहब्बत है कोई मर नहीं सकता इस में

मैं उस को ख़्वाब में कुछ ऐसे देखा करता था

तमाम रात वो सोते में मुस्कुराती थी