Fana Nizami Kanpuri's Photo'

फ़ना निज़ामी कानपुरी

1922 - 1988 | कानपुर, भारत

सबसे लोकप्रिय शायरों में शामिल, अपने ख़ास तरन्नुम के लिए मशहूर।

सबसे लोकप्रिय शायरों में शामिल, अपने ख़ास तरन्नुम के लिए मशहूर।

फ़ना निज़ामी कानपुरी के ऑडियो

ग़ज़ल

या रब मिरी हयात से ग़म का असर न जाए

फ़ना निज़ामी कानपुरी

ऐ हुस्न ज़माने के तेवर भी तो समझा कर

नोमान शौक़

ग़म हर इक आँख को छलकाए ज़रूरी तो नहीं

नोमान शौक़

तू फूल की मानिंद न शबनम की तरह आ

नोमान शौक़

मुझे रुतबा-ए-ग़म बताना पड़ेगा

नोमान शौक़

या रब मिरी हयात से ग़म का असर न जाए

नोमान शौक़

वो ख़ानुमाँ-ख़राब न क्यूँ दर-ब-दर फिरे

नोमान शौक़

साक़िया तू ने मिरे ज़र्फ़ को समझा क्या है

नोमान शौक़

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI