aaj ik aur baras biit gayā us ke baġhair

jis ke hote hue hote the zamāne mere

रद करें डाउनलोड शेर
Gulzar Moradabadi's Photo'

गुलज़ार मुरादाबादी

1988 | रियाज़, सउदी अरब

गुलज़ार मुरादाबादी

ग़ज़ल 4

 

अशआर 3

बड़ा दिलचस्प और राहत भरा था ये सफ़र अपना

चलो अब अपनी अपनी राह चलते हैं ख़ुदा-हाफ़िज़

  • शेयर कीजिए

तपिश से धूप की दीवार भी तप जाएगी 'गुलज़ार'

तो बेहतर है कि ढूँडो तुम किसी गुलज़ार का साया

  • शेयर कीजिए

हम कहाँ सँभले बिछड़ कर उस से हाँ कह सकते हो

दिल लगाने की सज़ा है दिल लगाने की सज़ा

  • शेयर कीजिए
 

Recitation

Jashn-e-Rekhta | 8-9-10 December 2023 - Major Dhyan Chand National Stadium, Near India Gate - New Delhi

GET YOUR PASS
बोलिए