noImage

हबीब मूसवी

ग़ज़ल 30

शेर 38

दिल लिया है तो ख़ुदा के लिए कह दो साहब

मुस्कुराते हो तुम्हीं पर मिरा शक जाता है

  • शेयर कीजिए

मय-कदा है शैख़ साहब ये कोई मस्जिद नहीं

आप शायद आए हैं रिंदों के बहकाए हुए

  • शेयर कीजिए

गुलों का दौर है बुलबुल मज़े बहार में लूट

ख़िज़ाँ मचाएगी आते ही इस दयार में लूट

  • शेयर कीजिए

पुस्तकें 2

दीवान-ए-हबीब

 

1900

Deewan-e-Habeeb

 

 

 

चित्र शायरी 1

दिल लिया है तो ख़ुदा के लिए कह दो साहब मुस्कुराते हो तुम्हीं पर मिरा शक जाता है