noImage

हामिद सरोश

हामिद सरोश

ग़ज़ल 4

 

अशआर 2

मैं ने भेजी थी गुलाबों की बशारत उस को

तोहफ़तन उस ने भी ख़ुशबू-ए-वफ़ा भेजी है

कितने ग़म हैं जो सर-ए-शाम सुलग उठते हैं

चारा-गर तू ने ये किस दुख की दवा भेजी है

 

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI

Jashn-e-Rekhta | 2-3-4 December 2022 - Major Dhyan Chand National Stadium, Near India Gate, New Delhi

GET YOUR FREE PASS
बोलिए