Ibn-e-Mufti's Photo'

इब्न-ए-मुफ़्ती

609
Favorite

श्रेणीबद्ध करें

कैसा जादू है समझ आता नहीं

नींद मेरी ख़्वाब सारे आप के

हम ने देखा है रू-ब-रू उन के

आईना आईना नहीं होता

कर बुरा तो भला नहीं होता

कर भला तो बुरा नहीं होता

इक ज़रा सी बात पे ये मुँह बनाना रूठना

इस तरह तो कोई अपनों से ख़फ़ा होता नहीं

दिल में सज्दे किया करो 'मुफ़्ती'

इस में पर्वरदिगार रहता है

तेरे ख़्वाबों की लत लगी जब से

रात का इंतिज़ार रहता है

दिल की बातों को दिल समझता है

दिल की बोली अजीब बोली है

जिन पे नाज़ाँ थे ये ज़मीन फ़लक

अब कहाँ हैं वो सूरतें बाक़ी

अब तो कर डालिए वफ़ा उस को

वो जो वादा उधार रहता है

यूँ तो पत्थर बहुत से देखे हैं

कोई तुम सा नज़र नहीं आया

याद का क्या है गई फिर से

आँख का क्या है फिर से रो ली है

हम से शायद मो'तबर ठहरी सबा

जिस ने ये गेसू सँवारे आप के

फिर से वो लौट कर नहीं आया

फिर दुआ में असर नहीं आया

ये कारोबार भी कब रास आया

ख़सारे में रहे हम प्यार कर के

सब निशाने अगर सहीह होते

तीर कोई ख़ता नहीं होता