इस लिए सब से अलग है मिरी ख़ुशबू 'आमी'

मुश्क-ए-मज़दूर पसीने में लिए फिरता हूँ