Iqbal Azeem's Photo'

इक़बाल अज़ीम

1913 - 2000 | कराची, पाकिस्तान

This video is playing from YouTube

वीडियो का सेक्शन
शायर अपना कलाम पढ़ते हुए
Reciting own poetry

इक़बाल अज़ीम

अपने मरकज़ से अगर दूर निकल जाओगे

इक़बाल अज़ीम

अपने माज़ी से जो विर्से में मिले हैं हम को

इक़बाल अज़ीम

अल्लाह रे यादों की ये अंजुमन-आराई

इक़बाल अज़ीम

आँखों से नूर दिल से ख़ुशी छीन ली गई

इक़बाल अज़ीम

आप मेरी तबीअ'त से वाक़िफ़ नहीं मुझ को बे-जा तकल्लुफ़ की आदत नहीं

इक़बाल अज़ीम

कुछ ऐसे ज़ख़्म भी दर-पर्दा हम ने खाए हैं

इक़बाल अज़ीम

ज़ब्त भी चाहिए ज़र्फ़ भी चाहिए और मोहतात पास-ए-वफ़ा चाहिए

इक़बाल अज़ीम

ज़हर दे दे न कोई घोल के पैमाने में

इक़बाल अज़ीम

नक़्श माज़ी के जो बाक़ी हैं मिटा मत देना

इक़बाल अज़ीम

बिल-एहतिमाम ज़ुल्म की तज्दीद की गई

इक़बाल अज़ीम

माना कि ज़िंदगी से हमें कुछ मिला भी है

इक़बाल अज़ीम

सब समझते हैं कि हम किस कारवाँ के लोग हैं

इक़बाल अज़ीम

वीडियो का सेक्शन
शायरी वीडियो
Naat Kainaat (Part 1, Prof. Iqbal Azeem)

Naat Kainaat (Part 8, Prof. Iqbal Azeem)

TAIBA JO YAAD AYA professor iqbal azeem naat's by shoaib ameer

अज्ञात

वीडियो का सेक्शन
अन्य वीडियो
Apne markaz se agar door nikal jao ge

Apne markaz se agar door nikal jao ge अज्ञात

Jab un se mile

Jab un se mile अज्ञात

Mansab to hamein bhi mil sakte the

Mansab to hamein bhi mil sakte the अज्ञात

Mughe apne zabt pe naz tha

Mughe apne zabt pe naz tha अज्ञात

Shikast e zarf ko pindaar e rindana nahin kehte

Shikast e zarf ko pindaar e rindana nahin kehte अज्ञात

Shikwa bhi jafa ka kaise karein

Shikwa bhi jafa ka kaise karein अज्ञात

Tum naghma e mah o anjum ho

Tum naghma e mah o anjum ho अज्ञात

Yeh nigah e sharm jhuki jhuki

Yeh nigah e sharm jhuki jhuki अज्ञात

कुछ ऐसे ज़ख़्म भी दर-पर्दा हम ने खाए हैं

कुछ ऐसे ज़ख़्म भी दर-पर्दा हम ने खाए हैं इक़बाल बानो

तुम ग़ैरों से हँस हँस के मुलाक़ात करो हो

तुम ग़ैरों से हँस हँस के मुलाक़ात करो हो सलमान अल्वी

रौशनी मुझ से गुरेज़ाँ है तो शिकवा भी नहीं

रौशनी मुझ से गुरेज़ाँ है तो शिकवा भी नहीं अज्ञात

शायर अपना कलाम पढ़ते हुए

  • Reciting own poetry

    Reciting own poetry इक़बाल अज़ीम

  • अपने मरकज़ से अगर दूर निकल जाओगे

    अपने मरकज़ से अगर दूर निकल जाओगे इक़बाल अज़ीम

  • अपने माज़ी से जो विर्से में मिले हैं हम को

    अपने माज़ी से जो विर्से में मिले हैं हम को इक़बाल अज़ीम

  • अल्लाह रे यादों की ये अंजुमन-आराई

    अल्लाह रे यादों की ये अंजुमन-आराई इक़बाल अज़ीम

  • आँखों से नूर दिल से ख़ुशी छीन ली गई

    आँखों से नूर दिल से ख़ुशी छीन ली गई इक़बाल अज़ीम

  • आप मेरी तबीअ'त से वाक़िफ़ नहीं मुझ को बे-जा तकल्लुफ़ की आदत नहीं

    आप मेरी तबीअ'त से वाक़िफ़ नहीं मुझ को बे-जा तकल्लुफ़ की आदत नहीं इक़बाल अज़ीम

  • कुछ ऐसे ज़ख़्म भी दर-पर्दा हम ने खाए हैं

    कुछ ऐसे ज़ख़्म भी दर-पर्दा हम ने खाए हैं इक़बाल अज़ीम

  • ज़ब्त भी चाहिए ज़र्फ़ भी चाहिए और मोहतात पास-ए-वफ़ा चाहिए

    ज़ब्त भी चाहिए ज़र्फ़ भी चाहिए और मोहतात पास-ए-वफ़ा चाहिए इक़बाल अज़ीम

  • ज़हर दे दे न कोई घोल के पैमाने में

    ज़हर दे दे न कोई घोल के पैमाने में इक़बाल अज़ीम

  • नक़्श माज़ी के जो बाक़ी हैं मिटा मत देना

    नक़्श माज़ी के जो बाक़ी हैं मिटा मत देना इक़बाल अज़ीम

  • बिल-एहतिमाम ज़ुल्म की तज्दीद की गई

    बिल-एहतिमाम ज़ुल्म की तज्दीद की गई इक़बाल अज़ीम

  • माना कि ज़िंदगी से हमें कुछ मिला भी है

    माना कि ज़िंदगी से हमें कुछ मिला भी है इक़बाल अज़ीम

  • सब समझते हैं कि हम किस कारवाँ के लोग हैं

    सब समझते हैं कि हम किस कारवाँ के लोग हैं इक़बाल अज़ीम

शायरी वीडियो

  • Naat Kainaat (Part 1, Prof. Iqbal Azeem)

    Naat Kainaat (Part 1, Prof. Iqbal Azeem)

  • Naat Kainaat (Part 8, Prof. Iqbal Azeem)

    Naat Kainaat (Part 8, Prof. Iqbal Azeem)

  • TAIBA JO YAAD AYA professor iqbal azeem naat's by shoaib ameer

    TAIBA JO YAAD AYA professor iqbal azeem naat's by shoaib ameer अज्ञात

अन्य वीडियो

  • Apne markaz se agar door nikal jao ge

    Apne markaz se agar door nikal jao ge अज्ञात

  • Jab un se mile

    Jab un se mile अज्ञात

  • Mansab to hamein bhi mil sakte the

    Mansab to hamein bhi mil sakte the अज्ञात

  • Mughe apne zabt pe naz tha

    Mughe apne zabt pe naz tha अज्ञात

  • Shikast e zarf ko pindaar e rindana nahin kehte

    Shikast e zarf ko pindaar e rindana nahin kehte अज्ञात

  • Shikwa bhi jafa ka kaise karein

    Shikwa bhi jafa ka kaise karein अज्ञात

  • Tum naghma e mah o anjum ho

    Tum naghma e mah o anjum ho अज्ञात

  • Yeh nigah e sharm jhuki jhuki

    Yeh nigah e sharm jhuki jhuki अज्ञात

  • कुछ ऐसे ज़ख़्म भी दर-पर्दा हम ने खाए हैं

    कुछ ऐसे ज़ख़्म भी दर-पर्दा हम ने खाए हैं इक़बाल बानो

  • तुम ग़ैरों से हँस हँस के मुलाक़ात करो हो

    तुम ग़ैरों से हँस हँस के मुलाक़ात करो हो सलमान अल्वी

  • रौशनी मुझ से गुरेज़ाँ है तो शिकवा भी नहीं

    रौशनी मुझ से गुरेज़ाँ है तो शिकवा भी नहीं अज्ञात