Irshad Khan Sikandar's Photo'

इरशाद ख़ान सिकंदर

1983 | दिल्ली, भारत

नवोदित शायरों में प्रमुख आवाज़

नवोदित शायरों में प्रमुख आवाज़

281
Favorite

श्रेणीबद्ध करें

बूढ़ी माँ का शायद लौट आया बचपन

गुड़ियों का अम्बार लगा कर बैठ गई

कल तेरी तस्वीर मुकम्मल की मैं ने

फ़ौरन उस पर तितली कर बैठ गई

रिश्ता बहाल काश फिर उस की गली से हो

जी चाहता है इश्क़ दोबारा उसी से हो

मिरे ख़िलाफ़ सभी साज़िशें रचीं जिस ने

वो रो रहा है मिरी दास्ताँ सुनाता हुआ

हमीं तुम से हमेशा मिलने आएँ क्यूँ

तुम्हारे पाँव में मेहंदी लगी है क्या

खींच लाई है मोहब्बत तिरे दर पर मुझ को

इतनी आसानी से वर्ना किसे हासिल हुआ मैं

मुद्दतों आँखें वज़ू करती रहीं अश्कों से

तब कहीं जा के तिरी दीद के क़ाबिल हुआ मैं

अब अपने-आप को ख़ुद ढूँढता हूँ

तुम्हारी खोज में निकला हुआ मैं

ज़माने पर तो खुल कर हँस रहा था

तिरे छूते ही रो बैठा है पागल

कर गया ख़मोश मुझ को देर तक

चीख़ना वो एक बे-ज़बान का

काम सब हो गए मिरे आसाँ

कौन समझेगा मेरी मुश्किल को

बह गए आँसुओं के दरिया में

आप की बात याद ही रही