noImage

जाफ़र अली खां ज़की

- 1764

शेर 1

इश्क़ में निस्बत नहीं बुलबुल को परवाने के साथ

वस्ल में वो जान दे ये हिज्र में जीती रहे

  • शेयर कीजिए