Jalaluddin Akbar's Photo'

जलालुद्दीन अकबर

1905 - 1940

ग़ज़ल 6

शेर 5

तिरा वस्ल है मुझे बे-ख़ुदी तिरा हिज्र है मुझे आगही

तिरा वस्ल मुझ को फ़िराक़ है तिरा हिज्र मुझ को विसाल है

ये भूल भी क्या भूल है ये याद भी क्या याद

तू याद है और कोई नहीं तेरे सिवा याद

दिल को इस तरह देखने वाले

दिल अगर बे-क़रार हो जाए

पुस्तकें 2

Aqwal-e-Akbar

 

 

Naqsh-e-Arzhang

 

1926