noImage

जालिब नोमानी

जालिब नोमानी

ग़ज़ल 2

 

अशआर 2

पिघलते देख के सूरज की गर्मी

अभी मासूम किरनें रो गई हैं

ख़ुद अपने आप से लर्ज़ां रही उलझती रही

उठा बार-ए-गराँ रात की जवानी से

 

Recitation

Jashn-e-Rekhta | 2-3-4 December 2022 - Major Dhyan Chand National Stadium, Near India Gate, New Delhi

GET YOUR FREE PASS
बोलिए