Karam Hyderabadi's Photo'

करम हैदराबादी

ग़ज़ल 1

 

शेर 2

इश्क़ की दुनिया में क्या क्या हम को सौग़ातें मिलीं

सूनी सुब्हें रोती शामें जागती रातें मिलीं

वाइज़ ख़ता-मुआफ़ कि रिंदान-ए-मय-कदा

दिल के सिवा किसी का कहा मानते नहीं

  • शेयर कीजिए