noImage

मिर्ज़ा मोहम्मद तक़ी हवस

1766 - 1855 | लखनऊ, भारत

अवध के नवाब, आसिफ-उद-दौला के ममेरे भाई, कई शायरों के संरक्षक

अवध के नवाब, आसिफ-उद-दौला के ममेरे भाई, कई शायरों के संरक्षक

मिर्ज़ा मोहम्मद तक़ी हवस के ऑडियो

ग़ज़ल

क्या मज़ा हो जो किसी से तुझे उल्फ़त हो जाए

नोमान शौक़

जंगलों में जुस्तुजू-ए-क़ैस-ए-सहराई करूँ

नोमान शौक़

जवानी याद हम को अपनी फिर बे-इख़्तियार आई

नोमान शौक़

हरगिज़ न मिरे महरम-ए-हमराज़ हुए तुम

नोमान शौक़

हँसते थे मिरे हाल को जो यार देख कर

नोमान शौक़

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI

Jashn-e-Rekhta | 2-3-4 December 2022 - Major Dhyan Chand National Stadium, Near India Gate, New Delhi

GET YOUR FREE PASS
बोलिए